कोर्ट ने किया बड़ा फैसला फ्रांस में मुस्लिम महिलाओं पर लगी पाबंदी को लेकर burkini controversy in France

burkini controversy in France

फ्रांस में बुर्किनी पर प्रतिबंध लगाने के मुद्दे ने समय-समय पर विवादों को उभारा है। स्थानीय सरकारें और कोर्ट ने इस मुद्दे पर प्रतिबंध लगाते रहे हैं। फ्रेजस (Fréjus) शहर में भी बुर्किनी पर प्रतिबंध था, जिससे कई विवाद भी हुआ था, लेकिन अब वहां की अदालत ने इस पर लगे प्रतिबंध को निलंबित कर दिया है। इस लेख में, हम इस विवादित मुद्दे पर एक विस्तृत दृष्टिकोन पेश करेंगे।

बुर्किनी का मतलब और महत्व

फ्रांस में मुस्लिम महिलाओं द्वारा सार्वजनिक स्थानों पर अपने शरीर और बालों को ढकने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला ऑल इन वन स्विमसूट है बुर्किनी। बुर्किनी का नाम दो शब्दों से मिलकर बना है – “बुर्का” और “स्विमसूट”। यह स्विमसूट मुस्लिम महिलाओं को उनके धार्मिक मूल्यों के साथ समुद्र तट और सार्वजनिक स्विमिंग पूल में नहाने की स्वतंत्रता प्रदान करता है। इसे धार्मिक और सामाजिक संस्कृति के प्रतिष्ठान के रूप में भी देखा जा सकता है।

प्रतिबंध का परिप्रेक्ष्य

साल 2016 से ही फ्रांस के कई तटीय शहरों में बुर्किनी पर प्रतिबंध लगाने की सिलसिला तेज हुआ था। यह विवाद उत्पन्न हुआ जब फ्रांस के धुर-दक्षिणपंथी मेयर डेविड रैचलाइन ने अपने शहर में बुर्किनी पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया। इस फैसले के बाद, फ्रांस के धार्मिक समुदायों ने इसे धर्मनिरपेक्षता के खिलाफ घोषित किया और स्थानीय टॉलोन प्रशासनिक अदालत गई। उस समय अदालत ने फैसला दिया कि यह प्रतिबंध धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांतों के खिलाफ है और उसने इसे रद्द कर दिया।

प्रतिबंध के पक्ष और विपक्ष

फ्रांस में बुर्किनी पर प्रतिबंध के पक्ष में वह लोग हैं जो इसे धर्मनिरपेक्षता और महिला सशक्तिकरण के मुद्दे से जोड़ते हैं। उनका मानना है कि सार्वजनिक स्थानों पर धार्मिक परिधान पहनने का अधिकार हर व्यक्ति को होना चाहिए और यह विचार धर्मनिरपेक्षता और धार्मिक स्वतंत्रता के सिद्धांतों के अनुरूप है।

also read this: Justin Trudeau Divorce कनाडा प्राइममिनिस्टर का हुआ तलाक 18 साल बाद पत्नी Sophie Grégoire Trudeau से

विपक्ष में वे लोग हैं जो बुर्किनी पर प्रतिबंध के पक्ष में खड़े होते हैं। उनका मानना है कि बुर्किनी एक पारंपरिक परिधान नहीं है और इसे सार्वजनिक स्थानों पर पहनना स्वाभाविक नहीं है। उनका यह दावा है कि बुर्किनी विश्वसनीयता को खतरे में डाल सकता है और सार्वजनिक स्थानों पर सुरक्षा नियमों का पालन नहीं कर सकता।

पिछले साल का बवाल

मई 2022 में फ्रांस के ग्रेनोबल शहर के मेयर ने स्विमिंग पूल नियमों में बदलाव कर शहर के सभी सरकारी स्विमिंग पूल में बुर्किनी समेत सभी तरह के स्विमसूट पहनने की छूट दे दी। इस पर गृहमंत्री गेराल्ड डारमैनिन ने भड़क गए और उन्होंने कहा कि स्थानीय प्रशासन का फैसला अस्वीकार्य है और उन्होंने इसे उलटने की धमकी दी। इसके बाद फ्रांस की एक अदालत ने ग्रेनोबल प्रशासन के फैसले को निलंबित कर दिया। पिछले साल भी फ्रांस में बुर्किनी पर मचा था बवाल।

निष्कर्ष

फ्रांस में बुर्किनी पर प्रतिबंध लगाने के मुद्दे ने समाज में विभाजन पैदा किया है। विवादित मुद्दे पर लोगों के भीतर विचारधारा की विविधता है और इसे समझने के लिए संवेदनशीलता के साथ संवाद करने की आवश्यकता है। एक ओर धार्मिक स्वतंत्रता और महिला सशक्तिकरण के पक्षधर हैं, तो दूसरी ओर सार्वजनिक स्थानों पर सुरक्षा और विश्वसनीयता के पक्षधर हैं। सार्वजनिक चर्चा के माध्यम से सभी तरफ की बातचीत की जानी चाहिए ताकि एक संविधानिक और समावेशी समाधान ढूंढा जा सके।

नोट-new news update’s के लिए WhatsApp और telegram group join करे

यह लेख फ्रांस में मुस्लिम महिलाओं द्वारा समुंदर किनारे नहाते वक्त पहने जाने वाले बुर्किनी को लेकर विवाद के विभिन्न पहलुओं को समझाने का प्रयास किया है। यह विवाद धार्मिक स्वतंत्रता और सार्वजनिक स्थानों पर सुरक्षा के मध्य संतुलन की तलाश में है। एक समझदार और समावेशी समाधान खोजने के लिए सभी तरफ के विचारों को सम्मानपूर्वक सुनने और समझने की आवश्यकता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न :-

बुर्किनी क्या है?

बुर्किनी एक स्विमसूट है जो मुस्लिम महिलाओं द्वारा सार्वजनिक स्थानों पर अपने शरीर और बालों को ढकने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

फ्रांस में बुर्किनी पर प्रतिबंध क्यों लगाया जा रहा है ?

फ्रांस में बुर्किनी पर प्रतिबंध उसके सुरक्षा और विश्वसनीयता को लेकर किया जा रहा है और इसे धार्मिक और सामाजिक संस्कृति के संक्रमण का भय भी है।

क्या बुर्किनी पर प्रतिबंध धर्मनिरपेक्षता के खिलाफ है?

हां, कई लोग मानते हैं कि बुर्किनी पर प्रतिबंध धर्मनिरपेक्षता के सिद्धांतों के खिलाफ है।

फ्रांस के सरकारी स्विमिंग पूल में बुर्किनी पहनने की इजाजत कब दी गई थी?

फ्रांस के ग्रेनोबल शहर के मेयर ने मई 2022 में फ्रांस के सरकारी स्विमिंग पूल में बुर्किनी पहनने की छूट दे दी थी, लेकिन उसे बाद में अदालत ने रद्द कर दिया था।

बुर्किनी पर विवाद फ्रांस में कब से शुरू हुआ?

फ्रांस में बुर्किनी पर विवाद साल 2016 से शुरू हुआ था और तब से ही इस मुद्दे को लेकर विवाद जारी है।

2 thoughts on “कोर्ट ने किया बड़ा फैसला फ्रांस में मुस्लिम महिलाओं पर लगी पाबंदी को लेकर burkini controversy in France

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *