श्राद्ध और पितृपक्ष

श्राद्ध और पितृपक्ष

श्राद्ध और पितृपक्ष हमारी संस्कृति में या यों कहें कि हिन्दू धर्म में प्रतिवर्ष भाद्रपद, शुक्ल पक्ष पूर्णिमा से आश्विन कृष्ण पक्ष अमावस्या तक के काल को पितृ पक्ष या श्राद्ध पक्ष कहते हैं… शास्त्रों में मनुष्य के लिए कुल 3 ऋण बतलाए गए हैं- 1. देव ऋण, 2. ऋषि ऋण और 3. पितृ ऋण…

Read More